सब डोमेन और कस्टम डोमेन मे क्या अंतर होता है

Hi दोस्तो आपने बार-बार सुना ही होगा सब डोमेन और कस्टम डोमेन के बारे और आप सोच रहे होंगे आनलाईन पैसा कमाने के बारे मे और एक वेबसाइट बनाना चाहते है तो आपको वेबसाइट बनाने से पहले अच्छी तरह समझ लेना चाहिए सब डोमेन क्या होता है और कस्टम डोमेन क्या होता है चलिए बिना समय गवाए बात करते है आखिर सब डोमेन क्या होता है? और कस्टम डोमेन क्या होता है? सब डोमेन और कस्टम डोमेन मे क्या अंतर होता है? दोस्तो आपको पता ही होगा डोमेन क्या होता है? फिर भी संक्षेप मे बता देना चाहता हूं इंटरनेट पर जितने भी नाम सर्च करते हो जैसे कि- .com, .net, .org, .in इत्यादि नाम के साथ लगा होता है आपने देखा होगा अगर आप फेसबुक इस्तेमाल इस्तेमाल करते हो तो गूगल मे एड्रेस के रूप मे Facebook.com यूज करते हो और तभी आप फेसबुक के साईट पर पहुंच जाते हो मतलब साफ-साफ है किसी के भी साइट्स पर जाने के लिए उसका नाम इस्तेमाल करते हो और पहुंच जाते हो जैसे कि

Facebook.com

Twitter.com

Flipcard.com

Amazon.com


दोस्तो ये सब नाम डोमेन से ही जुड़ा हुआ नाम है जो कि कोई ना कोई ये नाम डोमेन के साथ खरीद कर अपना साइट बना कर बिजनेस मे लगा हुआ है मतलब जिस तरह पृथ्वी पर रहने के लिए घर बनाने के लिए जमीन की जरूरत होती है घर बना देने के बाद किराए पर दे कर पैसा कमा सकते है ठीक उसी तरह इंटरनेट पर भी होता है आप डोमेन खरीद कर अपना वेबसाईट बना ले और बिजनेस या अपनी ज्ञान बांटकर पैसे कमा सकते है। दोस्तो अब आप बिल्कुल समझ गए होंगे .com, .in, .org, .net, ये डोमेन है जिसे कस्टम डोमेन के नाम से जाना जाता है और टाॅप लेबल डोमेन के श्रेणी मे है अब बात करते है सब डोमेन और कस्टम डोमेन मे क्या अंतर होता है?

सब डोमेन और कस्टम डोमेन मे क्या अंतर होता है
सब डोमेन और कस्टम डोमेन मे क्या अंतर होता है



(1) सब डोमेन:- दोस्तो आप ब्लॉगर के बारे मे सुना ही होगा ब्लॉगर गूगल का ही Product है आप फ्री मे ब्लॉगर पर ब्लॉग वेबसाईट बना सकते है लेकिन इसपर जब आप अकाउंट बनाएंगे तो आपको फ्री मे आपकी साईट का एड्रेस मिल जाती है जैसे की www.example.blogspot.in अगर आप नाम दोगे अगर आपका नाम Ram है सेटिंग भी एड्रेस मे करते हो तो www.ram.blogspot.in ही होगा मतलब blogspot.in अंतिम मे लगा ही मिलेगा जिसे सब डोमेन कहते है। दोस्तो ब्लॉगर पर आप आसानी से फ्री मे वेबसाईट बना सकते हो गूगल का फ्री Product है ब्लॉगर मगर बात ये है जब आप ब्लॉगर पर अकाउंट बना लोगे और सब डोमेन www.example.blogspot.in पर कमाई करने के लिए गूगल एडसेंस के अप्रूवल मे कुछ ज्यादा ही मेहनत लगेगी फिर भी आपको अगर गूगल एडसेंस का अप्रूवल मिल भी जाएगी तो Hosted अकाउंट का अप्रूवल मिलेगी Non Hosted अकाउंट का अप्रूवल सब डोमेन पर नही मिलती एक बात जान ले Google Adsense Hosted अकाउंट से Google Adsense Non Hosted अकाउंट कही ज्यादा बेहतर होता है कई बेनिफिट भी है ज्यादा कमाई भी होता है दोस्तो अगली पोस्ट मे हम बताएंगे Adsense Hosted अकाउंट और Adsense Non Hosted अकाउंट के बारे मे  अभी चलिए सब डोमेन की बात करते है ब्लॉगर मे अगर आप सब डोमेन blogspot.in को हटाकर Top लेबल कस्टम डोमेन को .com, .in, .org एड करके जल्दी से Adsense Non Hosted का अप्रूवल ले सकते हो। एक बात और ब्लॉगर पर सब डोमेन blogspot.in के साथ Adsense Hosted Account मिलती है अप्रूवल लेने मे बहुत ज्यादा समय भी लगभग लग जाता है मगर कस्टम डोमेन पर कुछ ही वक्त मे अप्रूवल मिल जाती है और ज्यादा बेनिफिट वाला Non Hosted अकाउंट का अप्रूवल मिलती है।

(2) कस्टम डोमेन:- दोस्तो आप कस्टम डोमेन के बारे मे और समझ ही गए होंगे .com, .in, .org इत्यादि कस्टम डोमेन top level डोमेन है कस्टम डोमेन का फायदा ये है कि आपका वेबसाइट गूगल मे बहुत जल्दी रैक हो जाता है कस्टम डोमेन के इस्तेमाल करके गुगल एडसेंस का अप्रूवल जल्दी लिया जा सकता है Non Hosted एडसेंस अकाउंट का अप्रूवल मिल जाता है जिसका बेनिफिट कुछ ज्यादा ही होता है। दोस्तो मेरा भी एकाउंट ब्लॉगर पर ही है सब डोमेन blogspot.in को हटाकर कस्टम डोमेन .com मतलब www.primarygyan.com का सेटअप करके बहुत जल्द गूगल एडसेंस Non Hosted अकाउंट का अप्रूवल लिया था। अगर आप सब डोमेन के बजाय कस्टम डोमेन का इस्तेमाल करेंगे तो फायदा ज्यादा पा सकते है।

दोस्तो अभी भी आपको समझ मे नही आया है सब डोमेन और कस्टम डोमेन मे क्या अंतर है तो आप कमेंट कर के पूछ सकते है Primary Gyan हर वक्त आपकी हेल्प करने के लिए तैयार है जय हिंद जय भारत!


Previous
Next Post »