जानिए दिवाली क्यो मनाई जाती है

नमस्कार दोस्तो आपका Primary Gyan पर बहुत-बहुत स्वागत है, आपलोगो को पता है भारत एक बड़ा देश है सभी धर्म के लोग रहते है भारत मे अनेक प्रकार के त्योहार मनाई जाती है इन्ही मे से एक बड़ा त्योहार दिवाली है जो हर धर्म के लोग मनाते है खासकर हिन्दू समाज के लोग दिपावली बड़ी धूमधाम से मनाते है आप भी दिवाली जरूर मनाते होगे मै भी मनाता हूं, हम आज ये आर्टिकल इसलिए लिख रहा हूं और आपलोगो के समक्ष दिपावली के बारे मे बाते कर रहा हू क्योंकि बहुत से ऐसे लोग है जो दिवाली तो बहुत धूमधाम से मनाते है मगर उन्हे पता नही है दिवाली क्यो मनाई जाती है? दोस्तो अगर आप भी दिपावली मनाते हो और आपको भी पता नही है दिपावली क्यो मनाई जाती है तो आपको दिपावली के बारे मे जानना चाहिए आखिर दिपावली क्यों मनाई जाती है तो चलिए बात करते है दिपावली क्यो कब से किसलिए किस कारण मनाई जाती है पढे और आप भी जानिए:-

जानिए दिवाली क्यो मनाई जाती है
दिवाली क्यो मनाई जाती है



(1) श्री राम के अयोध्या आगमन:- आपलोगो को पता होगा केकैयी राम की सौतेली माँ थी केकैयी की एक-एक बात राजा दशरथ मानते थे जो कि राम के पिता थे एक बार मंथरा की गलत सोच के शिकार मे केकैयी पर गई और राजा दशरथ के द्वारा दिए गए वचन मे केकैयी ने राम को चौदह साल वनवास भेजने को कहा गया था इस क्रम मे राम वनवास चले गए और जब चौदह वर्ष की वनवास पुरा कर लिए उसके पश्चात अयोध्या की ओर आने लगे उस दिन खासकर अमावस की अंधेरी रात थी अयोध्या के प्रजा राम से बहुत प्रेम करते थे राम की वनवास से लौटने के खुशी मे अमावस की अंधियारे को दूर करने के लिए प्रजा ने पहले तो सारा अयोध्या दीपक से उजाला कर दिये और पटाखे फोड़े ढोल-नगारे बजाने लगे और आपस मे मिठाईया बाटे-खाये, दोस्तो पुराने कथाओ के अनुसार भी यही कहा गया है और तब से लेकर अब तक लोग प्रथा को बरकरार रखे हुए है।

(2) पाण्डवो को लौटना:- दोस्तो आपलोग महाभारत के बारे मे जानते ही होंगे कौरवो की मामा शौकीनी के कारण सतरंज के खेल मे कौरव द्वारा तेरह साल की वनवास मिली थी जब पाण्डवो की वनवास काल समाप्त हुई राज्य मे आगमन के क्रम मे राज्य के प्रजा चारो तरफ दीपक रौशनी से चकाचौंध करके खुशी जाहिर किया था लोग इस घटना के क्रम मे भी दिपावली को मनाने की विवरण देते है।

(3) लक्ष्मी जी का अवतार:- हर साल दिपावली कार्तिक महिना अमावस की रात को होती है, कथाओ के अनुसार इस दिन समुद्र मंथन हुवा था समुद्र मंथन के दौरान माता लक्ष्मी जी की उत्पत्ति हुई थी माता लक्ष्मी को धन का देवी कहा जाता है इसी कारण दिपावली के रात घर-घर मे दिप जलाने के साथ साथ माता लक्ष्मी की पूजा की जाती है ताकी माता लक्ष्मी खुश रहे और उनकी घर मे पैसो की बरकत बनी रहे।

दोस्तो चाहे जो भी प्रथा के अनुसार दिपावली मनाया जाता है मगर श्री राम के अयोध्या आगमन की जो कथा पर दिपावली मनाने की कथा है ये सबसे अलग और सही भी है और भी अनेक कथा है जो दिपावली मनाने की प्रथा कथा मे प्रदर्शित है मगर हमने आर्टिकल मे जो सर्वोत्तम अच्छा है उसी को पेश किये है, धन्यवाद Primary Gyan पर नये आये है तो Subscribe जरूर करे।
Previous
Next Post »