फेसबुक पर 4 गलती के वजह से जेल जा सकते है

नमस्कार आपका बहुत-बहुत स्वागत है जानिए फेसबुक पर 4  गलती के वजह से जेल जा सकते है अगर आप भी फेसबुक यूजर है फेसबुक अकाउंट बनाये हुए है तो हो जाइये सावधान वरना फेसबुक पर गलतिया करोगे तो जेल की हवा खानी पर सकती है, दोस्तो आपलोगो को पता ही होगा आज के समय मे सभी लोग फेसबुक जरूर इस्तेमाल करते है मगर कुछ ही लोग है जो फेसबुक कि पाॅलिशी को फॉलो करते है अधिकांश लोग फेसबुक पाॅलिशी को नजरअंदाज कर देते है फेसबुक पर गलतिया करते है और कुछ ऐसे भी लोग है जो कम पढ़े-लिखे होने के कारण फेसबुक पाॅलिशी को जानते ही नही है और अनगिनत गलतिया करते रहते है, दोस्तो अगर आप भी फेसबुक अकाउंट चलाते है आपको भी पता नही है कौन-कौन सी गलतिया करने पर जेल कि हवा खानी पर सकती है तो जरूर संपूर्ण पोस्ट पढे और आज से ऐसी गलतीया फेसबुक पर बिलकुल ना करे तो चलिए बिना समय गवाए बात करते है फेसबुक पर कौन-कौन सी गलतिया करने पर जेल जाना पर सकता है-

फेसबुक पर 4 गलती के वजह से जेल जा सकते है
फेसबुक पर 4 गलती के वजह से जेल जा सकते है




यहां पढे फेसबुक पर 4 गलती के वजह से जेल जा सकते है:-


(1) कमेंट और मैसेज:- फेसबुक पर किसी के पोस्ट मे गंदी भाषा का इस्तेमाल गाली-गलौज और किसी को बार बार बिना मतलब मैसेेेज करकेे परेशान करने पर वो व्यक्ति चाहेगा तो आपके खिलाफ थाना मे रिपोर्ट दर्ज करा सकता है इस वजह से जेल कि हवा खानी पर सकती है।

(2) झूठी न्यूज शेयर:- फेसबुक पर गलत अफ़वाह न्यूज फैलाने पोस्ट शेयर करने के कारण भी कार्रवाई हो सकती है सजा मिल सकता है, हाल ही मे भारत सरकार गलत न्यूज फैलाने वालो पर कार्रवाई करने का निर्देश दिया है।

(3) अपमान जनक पोस्ट:- किसी व्यक्ति के खिलाफ अपमान जनक पोस्ट शेयर करना भी भारी पर सकता है शिकायत दर्ज करा सकता है कार्रवाई हो सकती है।

(4) नशीला पदार्थ और हथियार:- फेसबुक पर नशीले पदार्थ और हथियार का प्रर्दशन करना सख्त पाबंदी है आपके खिलाफ केस दर्ज हो सकती है जेल जाना पर सकता है।

दोस्तो ऐसे तो फेसबुक पर अनेक गलतिया है जो करेगे तो कार्रवाई हो सकती है मगर जो मुख्य गलतीया है वो हमने बताया, ऐसी गलतिया फेसबुक पर कभी नही करनी चाहिए अगर फेसबुक पर सही समझदार लोग का सामना हो जाएगा तो मुश्किल मे फंस सकते है वो आपके खिलाफ कार्रवाई करवा सकता है सावधान रहे सुरक्षित रहेगे सुन्दर समाज बनाइये धन्यवाद!
Previous
Next Post »